एमिरेट्सएडिडास
  1. टीम दूसरे यूरोपीयन कप के साथ पोज़ देती है
  2. डि स्टीफेनो वास्स डे बुडापेस्ट के खिलाफ एक गोल मार के जश्न मनाया

1951-1960

यह एक शानदार दशक था। अल्फ्रेडो डी स्टेफेनो के नेतृत्व में खिलाड़ियों के एक समूह ने रियल मैड्रिड को फुटबॉल के शिखर पर पहुंचा दिया। पांच लगातार यूरोपीय कप जीतने वाली टीम ने फुटबॉल के अपने शानदार ब्रांड के साथ दुनिया को चकित कर दिया। लगातार कामयाबी के बल पर क्लब ने यूरोप में अपना सिक्का जमा दिया। इस टीम को 'राजाओं का राजा' घोषित किया गया और फिर अपनी सफलता में चार चांद लगाने के लिए इंटरकांटिनेंटल कप (1960) का पहला संस्करण जीता।

यूरोप में फुटबॉल हाई स्टैंडर्ड पर खेला जा रहा था। इस तथ्य से वाकिफ, 50 के दशक की शुरुआत में, प्रसिद्ध फ्रांसीसी पत्रकार गेब्रियल हनोट ने एक प्रतियोगिता का सपना देखा जो था हर एक यूरोपीय लीग के चैंपियन को एक साथ लाना। उनके सहयोगी जैक्स फेरन इस प्रोजेक्ट में शामिल हुए। मिलकर उन्होंने कुछ नियम बनाए जो बाद में यूरोपीय फुटबॉल संघों (यूईएफए) के मुख्यालय तक पहुंचे। यह प्रस्ताव फ्रांसीसी प्रकाशन एल एक्यूप के प्रमुखों को पसंद आया, जिसने बाद में टूर्नामेंट का आयोजन किया।
 
उन्होंने एक आयोग का नाम दिया जिसमें सैंटियागो बर्नाब्यू को इसके उपाध्यक्ष के रूप में शामिल किया गया। चैंपियनशिप 1956 में शुरू हुई। रियल मैड्रिड ने उस वर्ष 13 जून को इतिहास में पहला यूरोपियन कप जीता। यह लगातार पांच जीते कपों में से पहला था जो उन्होंने अपने नाम किया। यह महान उपलब्धि इतिहास के सबसे महान फुटबॉलरों में से एक अल्फ्रेडो डी स्टेफेनो के हाथों और बर्नाब्यू के प्रेसिडेंट रहने के दौरान हासिल हुई थी।
 
मैड्रिड को क्लब के 50वीं वर्षगांठ वर्ष (1952) में डि स्टेफेनो मिले, जब टीम ने मिलोनारियोस को (4-2) से हराया। उसके बाद से क्लब की आंखें उन पर लग गईं और अगले वर्ष उन्होंने मैड्रिड के खिलाड़ी के रूप में पदार्पण किया। आने वाले सालों में वह रियल मैड्रिड के इतिहास में सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलर बन गए, इस दौरान वह दो बैलन डीऑर्स (1957 और 1959) प्राप्त करने वाले टीम के स्टार्स में एक बने। जिसने लगातार पांच वर्षों तक यूरोप में तहलका मचाया। हर कोई उसकी जादूगरी से मुग्ध था और उन्होंने दुनिया के बाकी बड़े खिलाड़ियों के लिए कंपटीशन के मायने बदल दिए।

1959-1960 सीज़न में, पूर्व-मैड्रिड के खिलाड़ी मिगुएल मुनोज़ (enlazar ficha) ने रियल मैड्रिड की बागडोर संभाली। उन्होंने मैनेजर के रूप में अपने पहले सीज़न में पांचवां यूरोपियन कप जीता, यूरोपियन कप (3 बार) जीतने वाले पहले फुटबॉलर बने जो खिलाड़ी रहे थे। 1960 में, रियल मैड्रिड वर्ल्ड चैंपियन भी बनी क्योंकि उन्होंने इंटरकांटिनेंटल कप (रियल मैड्रिड 5-1 पेनारोल डे मॉन्टेवीडियो) का पहला संस्करण जीता।

 

1951 - 1960
  1. यूरोपीय टाइटल का खिताब आखिरकार मिल ही गया

    रियल मैड्रिड को पांचवीं बार यूरोपियन चैंपियन घोषित करने के बाद उनके पास रखने के लिए ट्रॉफी दी गई।

  2. चैंपियनों के लिए जुलूस

    जब भी रियल मैड्रिड को यूरोपीय का चैंपियन घोषित किया गया, शहर अपने नायकों का स्वागत करने के लिए थम जाता था।

  3. बेलग्रेड स्नो पर एक मुकाबला

    हमारी याद में सबसे बेहतरीन मैचों में से एक 1955-1956 सीज़न के दौरान मैड्रिड और पार्टिज़न के बीच खेला गया क्वार्टर-फ़ाइनल सेकंड लेग मुकाबला था।

  4. रेमंड कोपा, वो स्ट्राइकर जिसका नाम इतिहास की किताबों में दर्ज हो गया

    फ्रांसीसी खिलाड़ी ने क्लब में अपने समय के दौरान रियल मैड्रिड पर अपनी छाप छोड़ी, तीन यूरोपीय कप जीते और दुनिया को दिखाया कि वह कितनी बड़ी प्रतिभा थे।

Siguiente Anterior

न्यूवो चमारतिन से सैंटियागो बर्नाब्यू स्टेडियम तक

सैंटियागो बर्नाब्यू के क्लब का अध्यक्ष रहते हुए, संस्था बढ़ी, स्पेन के बाहर टीम ज्यादा प्रचलित हुई और सफलता का एक पर्याय बन गई। कार्यभार संभालने के बारह साल बाद उन्हें सदस्य महासभा से एक बड़ा सम्मान मिला। 4 जनवरी 1955 को यह अनुमोदित किया गया था कि, उस तारीख से चमारतिन मैदान को सैंटियागो बर्नबेउ स्टेडियम कहा जाएगा, "मौजूदा प्रेसिडेंट के काम की मान्यता की पहचान के रूप में"। प्रेसिडेंट ने उपस्थित सभी लोगों को सम्मान के लिए धन्यवाद दिया और इस विचार को निदेशक मंडल को सौंप दिया, जिन्होंने इसे अनुमोदित किया।

ला लीगा में पहला रिकॉर्ड (1954-55)

मेट्रोपोलिटानो में, जो एटलेटिको डी मैड्रिड का होम है, रियल मैड्रिड ने सफलतापूर्वक अपने लीग खिताब का बचाव किया, वैसे ये दिन आगे चलकर यादगार बन गया। न केवल वे जीते, बल्कि उन्होंने जीत रिकॉर्ड-तोड़ शैली में हासिल की। यह पहली बार था जब किसी टीम ने 46 अंक जीते थे। क्लब को राष्ट्रीय शारीरिक शिक्षा और खेल मंत्रालय से बधाई का पत्र मिला। यह 1960 के दशक  में अभूतपूर्व नतीजा जो बड़ा कमाल था।

The first record in La Liga (1954-55)

आपका स्वागत है, 'कैननसिटो पम'

रियल मैड्रिड अपने स्टेडियम की ट्रॉफी कैबिनेट को भरना जारी रखना चाहता था। 1 अगस्त को उन्होंने अपनी टीम में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ लेफ्ट विंगर्स में से एक, फेरेंक पुस्कस को शामिल किया और इस तरह से टीम और मजबूत बन गई। गोल पर हमेशा नजर रहने और कमाल की शूटिंग काबिलियत के कारण

'केनोकिटो पम' निकनेम दिया गया। वह मैड्रिड के लेजेंड बन गए। अपने साथियों डि स्टेफेनो, रियाल, कोपा और गेंटो के साथ एक दुर्जेय स्ट्राइकफोर्स तैयार की, जिसके खिलाफ जीत हासिल कर पाना किसी भी टीम के लिए आसान तो बिल्कुल नहीं था। 

Welcome, ‘Cañoncito pum’

पुरस्कार

यूरोपियन कप - 5

यूरोपियन कप

5
इंटरकांटिनेंटल कप - 1

इंटरकांटिनेंटल कप

1
लिगास - 4

लिगास

4
Siguiente Anterior
Search