LazoGanadores de Champions LeagueOtro
  1. सेंटिआगो बर्नबौ पर मुलाक़ात 
  2. सेंटिआगो बर्नबौ स्टेडियम तैयार

नए चमारतिन स्टेडियम के निर्माण के बाद भी सेंटिआगो बर्नबौ अपना काम करने से रुके नहीं। क्लब के लिए नए दर्शकों की संख्या बढ़ते हुए देख स्टेडियम को और विकसित करने के ख्याल आते रहे। सन 1952 में स्टेडियम के निर्माण का दूसरा चरण शुरू हुआ, और कोशिश यह थी की कैसे भी करके 125,000 दर्शकों के लिए आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएँ।

सन 1954 में स्टेडियम की नयी क्षमता का उद्धघाटन और शुरुआत की गयी। सालों तक चले काम में कोशिश बस यही थी कि उसे और अच्छा कैसे बनाया जाए, और 1957 में यह स्टेडियम दुनिया में सबसे अच्छी रौशनी पैदा करने वाला बन गया। इसी के साथ रियाल मेड्रिड के अधिकारी, क्लब के प्रबंधन के अधिकारी स्टेडियम से ही काम करने लगे, जो कि एक महत्त्वपूर्ण बात थी क्योकिं तब तक अलग होकर सब शहर के अलग-अलग कोने से काम करते आ रहे थे।

Search